• 02:37 pm
news-details
अन्य राज्य

'गायब' तेजस्वी, पिता लालू से मिलने रांची पहुंचे तेज प्रताप..

जेल में बंद राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के उत्‍तराधिकारी कहे जाने वाले उनके छोटे बेटे तेजस्‍वी यादव लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्‍त के बाद सार्वजनिक जीवन से 'गायब' हो गए हैं। उधर, लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव इन दिनों मोर्चा संभाले दिख रहे हैं। शुक्रवार को उन्होंने चमकी बुखार को लेकर नीतीश कुमार पर निशाना साधा था। वहीं शनिवार को वह अपने पिता लालू प्रसाद यादव को देखने रांची के रिम्स हॉस्पिटल पहुंचे। बता दें कि रिम्स में ही लालू यादव का इलाज चल रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव भी तेज के साथ रांची पहुंचने वाले थे। पर, बाद में उन्होंने अपना कार्यक्रम रद्द कर दिया। हालांकि आधिकारिक रूप से इसकी कोई पुष्टि नहीं है। 

तेज प्रताप ने शुक्रवार को चमकी बुखार को लेकर राज्‍य सरकार पर तीखा हमला बोला। उन्‍होंने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार बिहार में चमकी बुखार से बच्‍चों की मौत को रोकने में असफल रहे। तेज प्रताप ने राज्‍य सरकार से अपील की कि वह बच्‍चों को मरने से बचाए। बिहार के पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री तेज प्रताप ने 23 जून को राजभवन तक मार्च करने का भी ऐलान किया। 


आरजेडी नेता ने कहा था, शायद वर्ल्ड कप गए हों तेजस्वी 
उधर, तेजस्वी यादव का अभी तक कोई पता नहीं है। बिहार में लोकसभा चुनाव के दौरान ही आरजेडी में तेजस्वी और तेज प्रताप के बीच तल्खी साफ देखने को मिली थी। चुनाव में करारी हार के बाद तेजस्वी यादव सार्वजनिक रूप से लंबे समय से दिखाई नहीं दिए हैं चुनावों के दौरान सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले तेजस्वी के ट्विटर अकाउंट पर भी सन्नाटा है। हां, आरजेडी के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह ने पिछले दिनों जरूर तेजस्वी के गायब होने पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि शायद वह वर्ल्ड कप देखने के लिए गए हैं। 

सिर्फ मुजफ्फरपुर में अब तक 128 बच्चों की मौत 
बता दें कि जानलेवा बुखार के चलते सिर्फ मुजफ्फरपुर में ही 128 बच्चों की मौत हो चुकी है। इसमें एसकेएमसीएच में 108 और केजरीवाल अस्पताल में 20 बच्चे जान गंवा चुके हैं। चमकी बुखार से बिहार में शुक्रवार को और 5 बच्चों की मौत हो गई। बिहार के वैशाली जिले स्थित हरिवंशपुर गांव में इन्सेफलाइटिस के चलते सबसे ज्यादा 11 बच्चों की मौत हो गई। यहां एक ही परिवार के तीन बच्चों की मौत दो दिन में हो गई। 

You can share this post!

Comments

Leave Comments