• 01:35 am
news-details
भारत

जब पीएम मनमोहन सिंह की बुलाई बैठक में नहीं पहुंचे थे सीएम नरेंद्र मोदी

बहुत से लोग हैं जो पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की आलोचना सिर्फ इसलिए कर रहे हैं क्योकि वो प्रधानमंत्री  मोदी की बुलाई बैठक में नही पंहुची थी। शायद वो नहीं जानते कुछ  साल पहले ऐसा ही वाक्या तब पेश आया था जब तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बुलाई बैठक में तब के गुजरात के सीएम नरेन्द्र मोदी नहीं पंहुच थे।

बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की आलोचना गृहमंत्री अमितशाह से लेकर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह तक ने ‌ट्वीट कर की है।  ममता बनर्जी की इस कृत्य की आलोचना करते हुए भाजपा थिंक टैंक सहित बहुत से लोगों ने नैतिकता की बात करते हुए देश को यह संदेश देने का यह प्रयास किया है की पीएम और सीएम एक व्यक्ति नही बलकि संस्था है इसलिए ममता बनर्जी ने लोकतंत्र का‌ अपमान किया है। 

ममता बनर्जी, यास चक्रवात से हुई तबाही की समीक्षा बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ शामिल नहीं हुई थीं। अब इसे लेकर विवाद खड़ा हो गया है। इतना ही नहीं ममता पीएम को रिसीव करने भी नहीं पहुंची थीं। ऐसे में उन पर ओछी राजनीति करने और प्रोटोकॉल तोड़ने के आरोप लग रहे हैं। हालांकि, इसके जवाब में सोशल मीडिया पर कुछ लोग 2013 के एक वाकये का भी जिक्र कर रहे हैं, जब मोदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ओर से बुलाई गई एक मीटिंग में हिस्सा नहीं लिया था।

वाकये का हुआ जिक्र?:

दरअसल, 2013 में मुजफ्फरनगर दंगों के बाद मनमोहन सिंह ने नेशनल इंटिग्रेशन काउंसिल (NIC) की दिल्ली में एक बैठक बुलाई थी। इसमें देश में चल रहे संप्रदायिक तनाव पर चर्चा की जानी थी। हालांकि, तब गुजरात के मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी और छत्तीसगढ़ के सीएम रमन सिंह इस बैठक में नहीं पहुंचे थे। इस मीटिंग में हुई चर्चा में लगभग सभी पार्टियों ने भाजपा को मुजफ्फरनगर में हिंसा फैलाने का आरोपी ठहराया था। साथ ही भाजपा के विधायक संगीत सोम को भी घेरा था।

You can share this post!

Comments

Leave Comments