• 10:02 pm
news-details
पंजाब-हरियाणा

कमजोर नेतृत्व के कारण देश-प्रदेश में अराजकता का माहौल: मो. इसराइल

आपदा को इवेंट बनाकर अपनी कमर थपथपा रही है सरकार

हथीन। देश की आर्थिक स्थिति रसातल में धंसती जा रही है। जब से केंद्र में एनडीए की सरकार स्थापित हुई है तब से देश के आर्थिक हालात का दिवाला पिटा हुआ है। देश की जनता को दिवास्वप्न दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए नरेंद्र मोदी ने लोगों के सपने ही बेच डाले। उक्त वक्तव्य शेर-ए-मेवात एवं कांग्रेस के प्रदेश स्तरीय नेता मो. इसराइल ने मेवात के बड़े गांव कोट में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। मरहूम चौधरी जलेब खां के सुपुत्र इसराइल ने अपने संबोधन में कहा कि हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वायदा कर सत्ता में आये नरेंद्र मोदी की सच्चाई यह सामने आई है कि नौकरी देना तो दूर देश के शिक्षित युवा वर्ग को उन्होंने प्राईवेट सेक्टर में भी नौकरी के लिए तरसा दिया है। 


बेरोजगारी का आलम यह है कि जब से नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद पर काबिज हुए हैं तब से कई करोड़ नौकरी उलटा छीन ली गई हैं। बेरोजगारी के हालात इतने बद से बदतर हो चुके हैं कि कामगार युवा मजदूरी तक करने को तैयार है लेकिन सरकार की गलत नीतियों के चलते शिक्षित युवा बेरोजगारों को मजदूरी भी मयस्सर नहीं हो पा रही है। फलस्वरूप युवाओं का एक बड़ा वर्ग क्राईम की दलदल में धंसता जा रहा है। इस प्रकार की घटनाओं से हम आये दिन मीडिया के माध्यम से रूबरू होते हैं। सरकार की अजनकल्याणकारी नीतियों का ही परिणाम है कि आज रोजगार के लगभग सभी क्षेत्रों में भारी गिरावट दर्ज की जा रही है। प्राईवेट सेक्टरों में भी कर्मचारियों की लगातार हो रही छंटनी चिंता का विषय है। फैक्टरियों के संचालक सरकार की गलत नीतियों को जिम्मेदार ठहराते हुए आज खुलेआम बोल रहे हैं कि प्रधानमंत्री के बड़बोले बोलों ने देश का भट्टा बैठा दिया है। आज प्रधानमंत्री या सरकार का कोई भी सहभागी देश की तेजी से गिरती जीडीपी पर बोलने को तैयार नहीं है। 


आपदाओं को इवेंट बनाकर अपनी कमर थपथपाना सत्तासीन लोगों की नियति बन  गई है। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी से बचने के लिए सरकार के द्वारा कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया, जिसका नतीजा यह है कि कोरोना महामारी ने हमारे देश में सुरसा जैसा मुख फैला लिया है। कांग्रेस नेता इसराइल  ने आरोप लगाया कि सरकार अपने प्रत्येक मोर्चे पर विफल साबित हुई है। सरकार की तानाशाही के कारण अब एनडीए की उलटी गिनती शुरु हो गई है। हरियाणा की राज्य सरकार पर कटाक्ष करते हुए इसराइल  ने कहा कि प्रदेश में मानों सरकार नहीं बल्कि व्यापार का आदान-प्रदान हो रहा हो। भाजपा-जजपा सरकार में आये दिन करोड़ों रुपयों के  घोटाले सामने आ रहे हैं। अफसरशाही पूरी तरह हावी है। आलम यह है कि अफसर लॉबी अपनी मनमानी के चलते लोगों का खून चूसने में लगी हुई है। जजपा और भाजपा दोनों पार्टियों में प्रदेश को लूटने की होड़ सी मची हुई है। मो. इजराईल ने दोहराया कि प्रदेश में कमजोर सरकार होने के चलते अपराध अपनी चरम सीमा पर है। उन्होंने दावा किया कि राज्य की जजपा-भाजपा सरकार अपने बोझ से स्वयं गिर जायेगी और राज्य में मध्यवती चुनाव होने लाजमी हैं जिसमें प्रदेश की जनता कांग्रेस पार्टी को बहुमत देकर राज्य की कमान सौंपने का मन बना चुकी है।

You can share this post!

Comments

Leave Comments