• 01:01 pm
news-details
पंजाब-हरियाणा

शहर भर में अध्यापकों ने निकाली  दीपक मंगला की शव यात्रा ,शपथ लेकर चुनाव में भाजपा का बहिस्कार करने का संकल्प लिया। 

पलवल के विधायक दलाल ने पंचकूला में हुए अध्यापकों पर हमले पर सरकार को लपेटा। 
 
 पलवल 17 सितंबर (सुन्दर कुंडू ):-भाजपा सरकार ने अतिथि अध्यापकों को पक्का करने के अपने वायदे को पांच वर्ष में पुरा नहीं किया। जिसके विरोध में सैकडों की संख्या में अतिथि अध्यापक सीएम के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला के निवास पर पहुंचे। जहां मंगला के न मिलने पर गुस्साए अतिथि अध्यापकों ने मंगला के निवास पर पहले तो शपथ ली कि वे भाजपा उम्मीदवार को वोट नहीं देंगे और उसके बाद शहरभर में मंगला की शव यात्रा निकालकर मीनारगेट पर उसका पुतला फूंका और जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।  
 
अतिथि अध्यापक संघ के जिला प्रधान प्रीतम सिंह ने बताया कि सभी अध्यापक एकत्रित होकर भाजपा सरकार को उनके वायदे की याद दिलाने के लिए सीएम के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला के निवास पर पहुंचे, लेकिन मंगला उन्हें वहां नहीं मिला। जिसके बाद अतिथि अध्यापकों ने उनके निवास पर ही सभा की। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा ने अपने वायदे को विधानसभा चुनाव की घोषणा से पहले पूरा नहीं किया। तो सभी अतिथि अध्यापक व उनके परिवार वाले भाजपा उम्मीदवारों को अपने घरों में नहीं घुसने देंगे। इतना ही नहीं अतिथि अध्यापकों ने शपथ ली कि वे विधानसभा चुनाव में पुरजोर भाजपा का विरोध करेंगे। उन्होंने कहा कि उनका एक साथी राजकुमार कालीरमन करनाल में पिछले 16 दिनों से आमरण अनशन पर बैठा हुआ है, लेकिन 16 दिन बाद भी सरकार ने हमारी बातें नहीं सुनी। जिसको लेकर अतिथि अध्यापकों में सरकार के प्रति भारी रोष व्याप्त है। उन्होंने कहा कि 2014 के विधानसभा चुनाव के समय शिक्षा मंत्री रामविलास शर्मा ने वादा किया था कि हमारी सरकार आने पर अतिथि अध्यापकों को पक्का कर दिया जाएगा। लेकिन अभी तक अतिथि अध्यापकों को पक्का नहीं किया है। उन्होंने कहा कि अगर आने वाले विधानसभा चुनावों से पहले उन्हें पक्का नहीं किया। तो वो वोट की चोट से इनको हराने का काम करेंगे तथा जहां भी सीएम के राजनैतिक सचिव दीपक मंगला अपना चुनाव कार्यक्रम करेंगे। वहीं पर जाकर इनका विरोध करेंगे।
वहीँ पलवल के विधायक कर्ण दलाल ने पंचकूला में शिक्षकों पर हुए लाठी चार्ज की निंदा करते हुए कहा सरकार पर जमकर निशाना साधा कर्ण सिंह ने कहा की अध्यापकों पर पुलिस द्वारा किया गया लाठीचार्ज इस कायर और  निक्क्मी खटटर सरकार के ताबूत की कील साबित होगा। उन्होंने कहा की पंचकूला में शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन कर रहे कंप्यूटर शिक्षकों पर इस भाजपा सरकार ने कहर बरपा कर बर्बरतापूर्ण लाठियां बरसाई जिसमे महिला अध्यापक भी शामिल थी. घायल शिक्षकों को हिंसक रूप से घसीट कर थाने ले जाया गया। उन्होंने कहा की घमंड और अहंकार में चूर प्रदेश के मुख्यमंत्री को आज इतना भी होश नहीं है की अध्यापक जैसे सम्मानित वर्ग पर भी अत्याचार करने से नहीं चूक रहे। में कंप्यूटर शिक्षकों पर हुए इस हमले की घोर निंदा करता हूँ। 

You can share this post!

Comments

Leave Comments