• 12:57 pm
news-details
पंजाब-हरियाणा

चुनावी मौसम में टिकट की जमीन खिसकती देख गुट बदलने लगे नेता। 

 

 हथीन (सुन्दर कुंडू):- विधानसभा चुनावो का मौसम आते ही विधानसभा में चंडीगढ़ पहुँचने का सपना पाले बैठे नेता टिकट के लिए अपने अपने स्तर पर जुगत बैठाने के लिए हर संभव प्रयाश में जुटे हुए है। कोई दल बदलकर चंडीगढ़ की पर्ची पाने की जुगत भिड़ाने में लगा हुआ है तो कोई अपनी ही पार्टी में नेताओं के गुट बदलकर चंडीगढ़ की पर्ची पाना चाहते है लेकिन ये तो राजनीति के गर्भ की बात है की ऐसे नेताओं की रणनीति कितनी सफल होती है इनको विधानसभा का टिकट मिलता है या फिर इनके ये प्रयाश असफल रहेंगे। ऐसा ही नजारा हथीन में भी बखूबी देखने को मिल रहा है जहाँ नेता टिकट के लिए हरसंभव प्रयाश में लगे हुए है। सबसे ज्यादा ऐसे नेताओं की फौज हथीन विधानसभा क्षेत्र में है जो पांच साल तो जनता के बीच में आये नहीं और अब चुनाव के समय में जनता के बीच में अपना चेहरा दिखाकर अपने आप को जनता का सबसे बड़ा हितैषी बता रहे है। ऐसे नेताओं की संख्या कांग्रेस और भाजपा में सबसे ज्यादा है। अगर बात करें

कांग्रेस की तो कुछ समय पहले तक रणदीप सुरजेवाला का राग अलापने वाली एक नेत्री अब हुड्डा गुट के बड़े नेता कर्ण सिंह दलाल के दरवाजे पर हाजिरी लगा रही है और वहां जाकर कर्ण सिंह दलाल से टिकट के लिए गुहार लगा रही है।लेकिन कांग्रेस महिला नेत्री यह भूल गयी की हथीन क्षेत्र में ऐसे नेता पहले ही मौजूद है जो हुड्डा के मुश्किल दौर में भुपेंद्र सिंह हुड्डा के साथ थे ऐसे में उन नेताओं की अनदेखी नहीं की जा सकती ,अगर कांग्रेस आलाकमान या पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा उन नेताओं की अनदेखी कर ऐसे किसी नेता को टिकट देते है जिसका पांच साल जनता से कोई सरोकार नहीं रहा तो कांग्रेस का नुक्सान होना लाजिमी है ,वैसे भी कांग्रेस आज के समय में मुश्किल दौर से गुजर रही है ऐसे में पार्टी आलाकमान ऐसा कोई रिस्क नहीं लेना चाहेगी की पार्टी का और कोई नुकसान हो।

वैसे भी बात करे इस इस महिला नेत्री की तो किसी भी माध्यम से इन्हे टिकट मिलना संभव नजर नहीं आ रहा क्योँकि हथीन विधानसभा क्षेत्र में ना तो इनका निवास है और ही ये हथीन क्षेत्र की मतदाता है ऐसे में इनको टिकट मिलना असंभव है ,लेकिन अगर बात करें इनके जन सम्पर्क अभियान की तो ये महोदय जनता के बीच में जाकर अपने लिए वोट की अपील कर रही है। जिससे ये जाहिर हो रहा है की ये महिला नेत्री चंडीगढ़ जाने के लिए ज्यादा ही उत्सुक है।

वहीँ अगर बात करे भाजपा की तो भाजपा में भी हथीन क्षेत्र से लगभग आधा दर्जन नेता टिकट मांग रहे है जिनमे कुछ ऐसे भी नेता है जो केवल पैसे की चमक के दम टिकट हासिल कर जनता को गुमराह करने की असफल चेष्टा कर रहे है। जिनका आम जनता के बीच में कोई जनाधार नहीं है केवल अपने दस पांच समर्थकों द्वारा पैसे के दम पर वाहवाही लूटकर अपने आप को विधायक समझे बैठे है सायद वो ये भूले हुए है की पैसों के दम पर चुनाव नहीं जीते जाते बल्कि चुनाव आम जनता जिताती है। अगर बात करें हथीन विधानसभा क्षेत्र की तो यहाँ से जजपा से पूर्व मंत्री हर्ष कुमार का टिकट पहले ही फाइनल हो गया है ,वहीँ भाजपा से पूर्व विधायक केहर सिंह रावत ,पूर्व विधायक रामजीलाल डागर के पुत्र प्रवीण डागर ,बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान धर्मेंद्र तेवतिया ,और संदीप डागर टिकट की रेस में है अगर बात करें कांग्रेस की तो पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के करीबी और पूर्व सीपीएस जलेब खान के पुत्र इसराइल ,अशोक तंवर गुट से बिलाल उटावड़ और कांग्रेस की महिला जिला अध्यक्ष सविता चौधरी टिकट मांग रही है और बसपा से तैय्यब भीमसीका के साथ इनेलो से प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. रानी रावत और राजबीर डागर टिकट की लाइन में है।

अब यह तो भविष्य ही बताएगा की किस नेता को टिकट मिलता है और कौन विधायक बनकर चंडीगढ़ जायेगा लेकिन ज्यादातर नेता अब जनता के बीच में जाकर अपने आप को जनता के सुख दुःख का सबसे बड़ा साथी बता रहे है। जबकि इनमे से कुछ तो ऐसे नेता है जो ना तो पांच साल जनता के बीच में गए और इनका ना ही जनता के सुख दुःख से कोई सरोकार है। 

 

You can share this post!

Comments

Leave Comments