• 04:08 pm
news-details
चुनाव

ब्रेकिंग न्यूज़ : सट्टा बाजार में भी मोदी सरकार की वापसी तय पर कांग्रेस भी सीटें बढ़ाएगी, जानें किसे कहां मिल रहीं कितनी सीटें।

लोकसभा चुनाव 2019 का एग्जिट पोल जारी हो गया है और ज्यादातर एग्जिट पोल के मुताबिक एक बार फिर से केंद्र में नरेंद्र मोदी की अगुआई में एनडीए की सरकार बनती दिख रही है। एग्जिट पोल इशारा कर रहे हैं कि नरेंद्र मोदी की सत्ता में वापसी तय है, हालांकि कांग्रेस भी पहले से अच्छा प्रदर्शन करते हुए इस बार अपनी सीटें बढ़ाती दिख रही है। लगभग सभी टीवी चैनलों और एजेंसियों के एग्जिट पोल में बीजेपी को बहुमत में दिखाया जा रहा है। पांच एग्जिट पोल के सर्वे में जहां बीजेपी और उसके सहयोगियों को 300 या उससे ज्यादा सीटें दिखाई गई हैं। वहीं तीन सर्वे में बीजेपी को 250 प्लस सीटों का अनुमान बताया गया है। यूपी में बीजेपी को बड़ा नुकसान का बताया जा रहा है। हालांकि, यूपी के नुकसान को बीजेपी ओडिशा में भुनाती दिख रही है। ज्यादातर एग्जिट पोल में ओडिशा में बीजेपी को 10 प्लस सीटों का फायदा बताया जा रहा है। 

दरअसल, रविवार को आम चुनाव के अंतिम चरण के मतदान के बाद आए एग्जिट पोल संकेत दे रहे हैं कि विपक्ष की तमाम कोशिशों के बावजूद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में एनडीए बड़ा गठबंधन बनकर उभरा है। अहम बात यह है कि भाजपा ने उन प्रदेशों में भी बेहतर प्रदर्शन किया है, जहां कुछ माह पहले ही कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव जीतकर सरकार बनाई थी। चुनाव विश्लेषकों के मुताबिक, एग्जिट पोल चुनाव परिणाम में बदलते हैं, तो कांग्रेस को आत्ममंथन करने की जरुरत है। एग्जिट पोल के अनुसार, लोकसभा चुनाव में भाजपा की अगुवाई वाला एनडीए न सिर्फ अपना पुराना प्रदर्शन बरकरार रखते दिख रहा है, बल्कि क्पश्चिम बंगाल और ओडिशा में स्थिति को काफी मजबूत किया है। इन राज्यों में मिली सीटों के आधार पर भाजपा उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन से होने वाले नुकसान की भरपाई कर सकती है। वहीं, कांग्रेस उत्तर प्रदेश में रैली और जनसभाओं में जुटी भीड़ को वोट में बदलने में नाकाम होती दिख रही है।

विपक्षी दलों ने एग्जिट पोल के अनुमानों को खारिज किया
कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कई दूसरे दलों ने एग्जिट पोल के आंकड़ों को खारिज कर दिया है। इन पार्टियों का दावा है कि चुनाव परिणाम इन अनुमानों के बिल्कुल उलट होंगे। विश्लेषकों की मानें तो सियासी पार्टियों के रुख में बदलाव हो सकता है, लेकिन इतना साफ है कि कांग्रेस के न्याय पर भाजपा का राष्ट्रवाद भारी पड़ा है। भाजपा की अगुआई वाला एनडीए सबसे बड़ा गठबंधन बनकर उभरा है।

नायडू को उनके गढ़ में ही कड़ी टक्कर
एग्जिट पोल के इन अनुमानों का असर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की विपक्ष को एकजुट करने की मुहिम पर भी पड़ेगा। चंद्रबाबू नायडू को आंध्रप्रदेश को वाईएसआर कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिल रही है। वहां लोकसभा के साथ विधानसभा चुनाव में वाईएसआर की जगनमोहन रेड्डी अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। तेलंगाना में विधानसभा चुनाव की तरह इस बार भी के चंद्रशेखर राव की अगुवाई में टीआरएस अच्छा प्रदर्शन कर रही है। चुनाव परिणाम एग्जिट पोल के आंकड़ों से कम रहते हैं तो टीआरएस, वाईएसआर 'किंग मेकर' की भूमिका निभा सकते हैं।

2014 लोकसभा चुनाव के क्या रहे थे नतीजे:
2014 लोकसभा चुनाव में प्रचण्ड बहुमत से बीजेपी सत्ता में आई थी। 2014 में कुल 543 सीटों के लिए हुए लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने 282 सीटें जीत कर स्पष्ट बहुमत प्राप्त किया था। भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को 336 सीटें प्राप्त हुई थीं। वहीं यूपीए को 60 सीटें मिले थे। भाजपा ने 428 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे, जिनमें से 282 सीटों पर कब्जा जमाया था। वहीं कांग्रेस ने 464 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और उन्हें महज 44 सीटों पर ही जीत हासिल हो पाई थी।

You can share this post!

Comments

Leave Comments