• 02:38 pm
news-details
क्राइम

कौन है ये सिकंदर उर्फ़ 'जिवाणु' जो 35 बच्चों और 40 पुरुषों को बना चुका है अपना शिकार !

जयपुर की एक स्थानीय अदालत ने सोमवार को सात वर्षीय मासूम के साथ दुष्कर्म करने के आरोपी सिकंदर उर्फ जीवाणु को न्यायिक हिरासत में भेज दिया. आरोपी सिंकदर को कोटा से शनिवार को गिरफ्तार किया गया था. उसे सोमवार को कड़ी सुरक्षा के बीच विशेष पोक्सो अदालत में पेश किया गया. अदालत परिसर में बड़ी संख्या में मौजूद वकीलों ने आरोपी के साथ मारपीट का प्रयास किया.

अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त (उत्तर) धर्मेन्द्र सागर ने कहा कि दो-तीन दिन बाद पुलिस आरोपी का रिमांड लेगी. आरोपी को यौन कुंठित बताते हुए पुलिस ने कहा कि वह कई अपराधों में शामिल रहा है. पुलिस ने बताया कि आरोपी मासूम लड़कियों, लड़कों, महिलाओं यहां तक की किन्नरों के भी यौन शोषण और अप्राकृतिक यौन अपराधों में शामिल रहा है. आरोपी पूर्व में न्यायिक हिरासत के दौरान नौजवान लड़कों को भी अपना शिकार बना चुका है.

जीवाणु उर्फ सिकंदर उर्फ जाहिद को 2014 में हत्या के जुर्म में सजा दी गई थी, लेकिन आरोपी को फरवरी 2015 में उच्च न्यायालय द्वारा बरी कर दिया गया था. आरोपी ने पुलिस को बताया कि उसने एक ही रात में 13 चोरियां कीं. उल्लेखनीय है कि आरोपी ने एक जुलाई की रात शास्त्रीनगर इलाके से सात वर्षीय एक मासूम को उसके घर के पास से पिता का मित्र बनकर उठाया और उसके साथ दुष्कर्म किया. उसे शनिवार को कोटा से गिरफ्तार किया गया.

लड़कों की तरफ बढ़ा था आकर्षण

Image result for images of dushkarm with boy

जयपुर पुलिस सिटी कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी 'सेक्सुअल प्रिडेटॉर' है यानी उसे बच्चों के यौन शोषण की लत है. गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने बताया कि कोटा जेल में रहने के दौरान उसने बाबू चाय वाला नाक के शख्य से जान पहचान बना ली थी और घटना के अंजाम देने के पांच दिन बाद उससे मिलने पहुंचा था. उन्होंने बताया कि आरोपी ने 35 बच्चों का बलात्कार करने और 40 लड़कों का यौन शोषण यहां तक की किन्नरों का यौन शोषण करने की बात स्वीकारी है. आजकल वह पुरुषों की ओर ज्यादा आकर्षित होने लगा था.

पुलिस ने बताया कि शास्त्री नगर में घटना के बाद आरोपी के बारे में कोई सुराग नहीं था, क्योंकि सीसीटीवी फुटेज में भी कुछ साफ नहीं दिख रहा था, लेकिन एक बात जरूर सामने आई हाल की दोनों एक घटनाओं में एक ही मोटर साइकिल का इस्तेमाल किया गया था. यह मोटर साइकिल चोरी की थी. शास्त्री नगर में तैनात हवलदार दिनेश यादव ने अपने अधिकारियों को सूचना दी कि आरोपी शख्स कुछ दिन पहले शास्त्री नगर इलाके में दिखाई दिया था. इसके बाद आरोपी तस्वीरें निकलवाकर मुखबिरों तक पहुंचाई गईं और दिखने पर जल्द ही जल्द सूचना देने की बात कही गई. इस प्रकार आरोपी शख्स पकड़ गया.

You can share this post!

Comments

Leave Comments