• 12:32 pm
news-details
पंजाब-हरियाणा

मानव जाति  पर आए संकट से मिलकर लडऩा है: मनोहर लाल

 

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने वीसी के माध्यम से प्रदेशभर के संत समाज व धर्म गुरूओं से की बात

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा है कि कोरोना महामारी समस्त मानव जाति पर एक संकट है, जिसमें हम सभी को मिलकर लडऩा है। जब-जब इस धरती व किसी समाज पर कोई विपत्ति आई है, संत समाज हमेशा आगे आया है। उन्होंने प्रदेशभर के सभी धर्म गुरुओं, संत समाज से अपील करते हुए कहा कि वे कोरोना महामारी के बचाव के लिए मिलकर प्रयास करें। उन्होंने कहा कि समाज में भाईचारे की भावना को बरकरार रखते हुए इस बीमारी से निजात पानी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक उन्माद फैलाने वाले शरारती तत्वों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल बुधवार को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से प्रदेशभर के संत समाज व सभी धर्म गुरुओं से बातचीत के दौरान अपना संदेश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि संकट के समय में समाज के अग्रणी माने जाने वाले वर्ग सबसे पहले आता है, जिसमें संत समाज प्रमुख रूप से शामिल है। उन्होंने कहा कि साधु-महात्मा, धर्म गुरु और संतों के उपदेश का जनता पर बड़ा ही सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। ऐसे में अब इस संकट की घड़ी में उनकी वाणी का महत्व और भी अधिक बढ़ गया है। 
ट्रिपल एस की पद्धति पर काम करना कारगर
उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से लडऩे के लिए सरकार द्वारा शुरु से ही हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन यह लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि कोरोना से लडऩे के लिए ट्रिपल एस यानि स्टे एट होम, सोशल डिस्टेंस और और सेनीटाईजेन आदि तीन मूल सिद्धांतों पर काम किया जा रहा है और जिसके बड़े ही सकारात्मक परिणाम सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि हमें जीवन को बचाना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज अमेरिका, चीन, फ्रांस और इटली जैसे देश कोरोना का सामना करने में असहाय पड़ गए हैं, लेकिन भारत के ओजस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृत्व में हमारे देश के हालात दूसरे देशों से कहीं बेहतर हैं और जनमानस के सहयोग से इस लड़ाई से लड़ रहे हैं। 

अपने अनुयायियों को वालंटियर के रूप में लाने का आह्वान-
मुख्यमंत्री ने संत समाज व धर्म गुरूओं का आह्वान किया कि वे अपने-अपने अनुयायियों को एक वालंटियर के रूप में तैयार करें और समाज सेवा में लगाएं। उन्होंने कहा कि जरूरतमंदों की मदद करना सबसे बड़ी सेवा है। सरकार द्वारा हर जरूरतमंद को भोजन देने के लिए व्यवस्था की जा रही है, लेकिन संकट के समय परिवार के साथ-साथ सरकार के सामने भी वित्तीय संकट बन जाता है। उन्होंने कहा कि आज हर वर्ग सरकार के साथ खड़ा है और खुलकर आर्थिक सहयोग कर रहा है। 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि जब तक कोरोना महामारी का अंत नहीं हो जाता है, हमें दिल्ली के निजामुदीन जैसी घटना को नहीं दोहराना है। उन्होंने कहा कि त्यौहारी सीजन में हमें अपनी श्रद्धा के अनुसार अपने घर पर ही आयोजन करना है और उसके भी सोशल दूरी बनाए रखनी है। उन्होंने कहा कि समाज में नफरत फैलाने वाले शरारती तत्वों के साथ सख्ती से निपटा जा रहा है। किसी भी कानून अपने हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। 

मुख्यमंत्री और प्रशासन को हर संभव मदद का आश्वासन-
इस दौरान साध्वी करूणागिरी ने मुख्यमंत्री से भिवानी बातचीत की और कहा कि भिवानी का संत समाज सरकार व प्रशासन के साथ है। जोगीवाला मंदिर के महंत वेदनाथ ने उपायुक्त अजय कुमार को आश्वस्त किया कि प्रशासन द्वारा जो भी जिम्मेदारी संत समाज को सौंपी जाएगी, उसको हर संभव पूरा किया जाएगा।
इस मौके पर भिवानी में विशेष तौर पर नियुक्त रिपू दमन सिंह ढिल्लो आईएएस, एसीयूटी सचिन गुप्ता आईएएस, जिला राजस्व अधिकारी प्रमोद चहल, हनुमान जोहड़ी मंदिर धाम के महंत चरणदास महाराज, चहैड़ पहाउ़ी से केशव नाथ, नवां राजगढ़ से नरेंद्र गिरी, खरक से राजबीर दास, श्री कृष्ण प्रणामी आश्रम से प्रतिनिधि डॉ. मुरलीधर शास्त्री, आनंद आश्रम निगाना से प्रताप महाराज, राधा स्वामी ब्यास रोहतक रोड़ से बलकार यादव, तेरापंथ से सुरेंद्र जैन, राधा स्वामी डेरा लोहारू से राजकुमार सैनी, तोशाम जस्जिद से उमर दीन आदि अनेक धर्म गुरू व संत मौजूद रहे। 

You can share this post!

Comments

Leave Comments