• 05:04 pm
news-details
राज्य

सीएम हरियाणा के नाक के नीचे लग रही है सरकारी नौकरी की बोली

 

शर्म करो खट्टर साहब !

बिहार में एनडीए गठबंधन सरकार के गठन के कुछ ही घंटो बाद शिक्षा मंत्री मेवा लाल चौधरी का इस्तीफा ले लिया गया। खबर है यह इस्तीफा सहयोगी दल भाजपा के दबाव के मद्देनज़र लिया गया था । इस्तीफे की वजह बताई गई की मेवा लाल चौधरी पर नौकरीयों में फ्रर्जीवाडे का आरोप था तो नैतिकता के आधार पर मुख्य सहयोगी दल भाजपा के दबाव में यह फैसला लिया गया और सुशासन बाबू को नैतिकता पाठ पढा़ दिया गया। तो यह खबर थी बिहार की। अब हम आपको हरियाणा सरकार का चेहरा दिखाते है। सुशासन बाबू को तो नैतिकता का पाठ बड़ी आसानी से पढा़ दिया गया क्योकि बिहार में भाजपा बडा़ भाई होते हुए भी छोटे भाई की भूमिका निभाने के लिए मजबूर है और छोटा भाई तो आँख दिखा ही सकता है। अब क्योकि हरियाणा में साम् दाम् दंड भेद के साथ मनोहर बाबू दूसरी बार सरकार चला रहे हैं, तो नैतिकता गई भाड में। हुआ यूं के अभी हाल ही में ही मुख्यमंत्री मनोहर लाल के विधानसभा क्षैत्र में सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर का चुनाव था। जिसकी खानपूर्ति के लिए शिक्षा मंत्री कवंर पाल गुजर्र को चुनाव पर्यवेक्षक बनाया गया था। खानपूर्ति शब्द का इस्तेमाल इसलिए किया गया क्योकि मुख्यमंत्री का गृह क्षेत्र है तो सब कुछ पहले से ही तय था।

लेकिन जनता में यह मैसेज पंहुचाना बेहद जरूरी था की पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र नाम की एक चिड़िया भी है जो केवल घास चरती है।  पर्यवेक्षक नियुक्त कर के यह संदेश बेहद खुबसूरती से जनता के बीच पंहुचा दिया गया और पहले से तय नामों पर सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर के नामों पर मुहर लगा दी गई।अब खबर यह भी बड़ी तेजी से उड़ रही है की इन नियुक्तियों पर पार्षदो में अंसतोष की जबरदस्त लहर उठ रही है , पर बिल्ली के गले में घंटी बांधे तो बांधे कौन ? क्योकि इन नियुक्तियों में सीधे सीधे मुख्यमंत्री का अदृश्य वृहृदहस्त नज़र आता है। उपरोक्त घटनाक्रम को घटे अभी 72 घंटे भी नहीं हुए है की लाइनपार इलाके के ही  एक युवा ने सीनियर डिप्टी मेयर के परिवार पर बेहद सनसनीखेज  आरोप लगा दिए हैं। खबर है की मुख्यमंत्री को शिकायत देकर सीनियर डिप्टी मेयर सहित उनके भाई और पिता पर संगीन आरोपो की झड़ी लगा दी है। शिकायत में आरोप है की सीनियर डिप्टी मेयर के भाई ने परिवार की शह पर कमेटीयों की आड़ में लाखों रूपये का फर्जी वाडा किया है। शिकायतकर्ता जतिन बहल ने मुख्यमंत्री को दी गई अपनी शिकायत में गुहार लगाई है की सीनियर डिप्टी मेयर के परिवार से उसके जानमाल की रक्षा की जाए कयोंकि राजनिति पृष्ठभूमि से संबधित यह परिवार अब सीनियर डिप्टी मेयर की कुर्सी पर पंहुच कर पहले से भी ज्यादा शक्तिशाली हो चुका है। 


शिकायत सामने आने के बाद क्यासों और चर्चाओं का बाजार बेहद गर्म है। लोगो का कहना है की बिहार में नैतिकता की दुहाई देने वाली भाजपा का का हरियाणा में कैसा चरित्र है यह अब खुलकर सामने आ जाएगा। दूसरी ओर कुछ लोग यह चुटकी लेने से भी नही चुक रहे हैं की इतने संगीन आरोपो की झड़ी के बाद कहीं मुख्यमंत्री की नैतिकता जाग गई तो शपथग्रहण समारोह पर कहीं सचमुच का ग्रहण ना लग जाए। 

You can share this post!

Comments

Leave Comments