• 02:02 am
news-details
पंजाब-हरियाणा

बीएसएनएल डीलर्स भी किसानों के समर्थन में जिओ सिम फ्री में कर रहे है पोर्ट

 

बीएसएनल फ्री सिम पोर्ट के साथ 45 दिन तक काल और इंटरनेट मुफ्त में देगा

पलवल, 19 दिसम्बर (सुन्दर कुंडु) : देशभर में पिछले करीब 25 दिनों से किसानों का आंदोलन चरम पर है किसान जहां एक तरफ सरकार द्वारा लाये गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में लगातार बड़ी संख्या में देशभर में आंदोलनरत है और सरकार के विरोध में डटे हुए है वहीं दूसरी तरफ अडानी अम्बानी का विरोध भी देशभर में हो रहा है जिसका नुकसान भी इन उद्योगपतियों को हो रहा इसकी वजह यह है कि किसानों का कहना है कि सरकार अडानी और अम्बानी जैसे उद्योगपतियों के लिए इन कानूनों को लायी है। इसी का असर अम्बानी के रिलायन्स ग्रुप पर पद रहा है। किसान आंदोलन स्थलों से अम्बानी की मोबाइल सिम जिओ को अन्य नेटवर्कों में पोर्ट कराने की अपील कर रहे है। साथ ही अन्य कम्पनी भी मौके का भरपूर फायदा उठा रही है और जिओ से आने वाले ग्राहकों को तरह तरह के आकर्षक ऑफर दे रहीं है ताकि जिओ के ज्यादा से ज्यादा ग्राहक उनके नेटवर्क से जुड़ सकें और उनके ग्राहकों में इजाफा हो सके। पिछले करीब एक सप्ताह में रोजाना लाखों की संख्या में जिओ के नम्बर पोर्ट किये जा रहे है जिससे रिलायंस ग्रुप घबराहट में है इसी को मद्देनजर रखते हुए जिओ ने TRAI को वोडाफोन और एयरटेल के खिलाफ शिकायत भी की है। जियो के मुताबिक, ये दोनों कंपनियां दावा कर रही हैं कि जियो के मोबाइल नंबर को उनके (एयरटेल या वोडा के) नेटवर्क पर पोर्ट करना किसान आंदोलन को समर्थन होगा। जियो के मुताबिक, बड़ी संख्या में पोर्ट रिक्वेस्ट मिल रही हैं, जिसमें ग्राहक जियो सर्विस से संबंधित किसी भी शिकायत के बिना जियो छोड़ रहे हैं।


इसी को मद्देनजर रखते हुए सरकारी दूरसंचार कम्पनी बीएसएनल के कई डीलरों ने किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए जिओ की सिम को बीएसएनएल में पोर्ट कराने पर कई स्कीम ग्राहकों को फ्री में देने की घोषणा की है। इसी कड़ी में बीएसएनएल की होडल फ्रैंचाइज़ी ने जिओ के ग्राहकों को बीएसएनल से जोड़ने के लिए आकर्षक ऑफर दिया है जिसमें जिओ से बीएसएनल में नम्बर पोर्ट कराने पर 45 दिनों तक अनलिमिटिड कॉल और डेटा मुफ्त में देने का एलान किया है। फ्रेंचाइजी होडल की मालिक बबली के अनुसार जिओ से बीएसएनल में सिम फ्री में पोर्ट की जाएगी और डेढ़ महीने तक कॉल और इंटरनेट की सुविधा बिल्कुल मुफ्त दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य केवल किसान आंदोलन को समर्थन देना है क्योँकि किसान जिस संघर्ष से जूझ रहा है उसमें सभी का फर्ज बनता है कि अन्नदाता के संघर्ष में उनका साथ दें जिस तरह भी हो सके।o

You can share this post!

Comments

Leave Comments