• 02:00 am
news-details
पंजाब-हरियाणा

महिलाएं समाज की रीढ़ की हड्डी समान: चौधरी आफताब अहमद

 

किसी भी समाज व इलाके की तरक्की में महिलाओं की बड़ी भूमिका होती है, आज चाहे घर की बात हो या किसी अन्य क्षेत्र की बात हो, महिलाएं हर जगह 

अपनी भूमिका निभा रही हैं। महिलाएं जीवन रूपी गाड़ी में पुरुष के समान ही अपना फ़र्ज़ अदा कर रही हैं। आज समाज में अधिकांश लोग बेटियों को बेटे समान अवसर मुहैय्या करा रहे हैं जो सकारत्मक संकेत हैं। उक्त विचार कांग्रेस विधायक दल के उप नेता व नूंह विधायक चौधरी आफताब अहमद ने  

डिजिटल एम्पोवेर्मेंट फाउंडेशन संस्था के डिजिटल सार्थक कार्यक्रम में कहे।

 

चौधरी आफताब अहमद इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे थे, इसमें महिलाओं के लिए डिजिटल कौशल कार्यक्रम शुरू किया है जिसमें डिजिटल सार्थक के माध्यम से 1000 महिलाओं को डिजिटल कौशल बनाया जाएगा ताकि महिला सशक्त नियोक्ता के रूप में सशक्त समाज बना सके। डी.ई.एफ ने प्रशिक्षकों को एक स्मार्टफोन और एक प्रिंटर द्वारा 1000 महिलाओ को उद्यमी बनाया जाएगा। यह परियोजना जिले नूह के 10 गांवो आकेड़ा, मालव, खेड़ा, सलम्बा, सालाहेडी, अड़बर,घासेड़ा, रेहना, बिवां व अन्य गांवों में किया जा रहा है। 

 

 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विधायक चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि अगर किसी भी समाज को मजबूत व सशक्त बनाना है तो महिलाओं को मजबूत बनाया जाए तभी हम सशक्त समाज बना सकते हैं। और आज अच्छी चीज ये देखने को मिल रही है कि हर क्षेत्र में बेटियां आगे आ रही है। डाक्टर, पुलिस, वकील, जज, शिक्षक सब इलाक़े की बेटियां बन रही हैं जो सुखद अनुभव है। 

 

सीएलपी उप नेता चौधरी आफताब अहमद ने कहा कि उन्होंने अपने पिछले कार्यकाल में लड़कियों की तालीम के लिए काफी काम किए चाहे वो महिला कॉलेज की स्थापना हो, कस्तूरबा गांधी स्कूल हों, बेटियों के लिए विशेष आरक्षण हो, उनके छात्रावास की सुविधा हो, कई अन्य परियोजनाएं जैसे, जीएनएम संस्थान की सौगात भी दी थी, बेटियों को डाक्टर बनाने के लिए मेडिकल कॉलेज, इंजिनियर बनने के लिए बहु तकनीकी संस्थान, जैसी कई परियोजना दी थी, आगे भी जब कांग्रेस सरकार बनेगी तो लड़कियों की तालीम के लिए ऐतिहासिक काम जारी रखे जाएंगे। विधायक आफताब अहमद ने कहा कि आज डिजिटल युग के समय मे समाज को डिजिटाइजेशन के माध्यम से ही मजबूत किया जा सकता है ।

 

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से डिजिटल एम्पावरमेंट फ़ाउंडेशन से प्रोजेक्ट ऑफिसर मो. आरिफ टाई, समर खान प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर, सगीर फील्ड ऑफिसर व आलम खान सूचना संयोजक, अल्ताफ़ डीके,  साजिद, मुस्तकीम, उम्मर अड़बर , व अन्य स्टाफ सदस्य व ग्रामीण मौजूद थे।

You can share this post!

Comments

Leave Comments