• 08:16 pm
news-details
उत्तराखंड

खतरे में सीएम रावत की कुर्सी,केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल का नाम भी दावेदारो की फेहरिस्त में

* उत्तराखंड में सियासी भूचाल, क्या खतरे में है सीएम रावत की कुर्सी?

* दावेदारो की फेहरिस्त में केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का नाम भी आया सामने! 

* पढ़िए मीटिंग के बाद क्या बोली बीजेपी

उत्तराखंड में गैरसैंण में जारी बजट सत्र के बीच सियासी बवंडर मचा हुआ है। आनन-फानन में स्थिति संभालने के लिए बीजेपी ने पर्यवेक्षकों को देहरादून भेजा था। इसी के साथ सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत की कुर्सी जाने की अटकलें तेज हो गईं। उत्तराखंड के सियासी गलियारों में अगले सीएम की चर्चा भी शुरू हो गई हैं, हालांकि कोर कमिटी के बाद बीजेपी 'ऑल इज वेल' कह रही है।

दरअसल उत्तराखंड के कई विधायकों ने सीएम की वर्किंग स्टाइल से नाराजगी जताई है। ऐसा कहा जा रहा है कि गैरसैंण को तीसरा प्रसाशनिक मंडल घोषित करने से पहले कई मंत्रियों से सलाह नहीं ली गई। इससे कई नेता अंसतुष्ट हैं। उत्तराखंड में बीजेपी के कई विधायकों ने कुछ महीने पहले दिल्ली आकर राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी। उन्होंने यह डर भी जाहिर किया कि अगर मौजूदा स्थिति में चुनाव हुए तो बीजेपी की मुश्किल बढ़ सकती है।

देहरादून में हुई कोर ग्रुप की बैठक
ऐसे में केंद्र की तरफ से पर्यवेक्षकों को उत्तराखंड में स्थिति का जायजा लेने भेजा गया था। इसी क्रम में पार्टी के संसदीय बोर्ड ने शनिवार को देहरादून में कोर ग्रुप की बैठक बुलाई थी। इसमें पार्टी उपाध्यक्ष रमन सिंह और दुष्यंत गौतम ने राज्य में आए राजनीतिक भूचाल की स्थिति की जानकारी ली। मीटिंग में गैरसैंण से देहरादून की फ्लाइट लेकर सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत भी पहुंचे थे।

सीएम बदलने की अटकलों पर विराम
मीटिंग खत्म होने के बाद सीएम का चेहरा बदलने की अटकलों पर बीजेपी ने विराम लगा दिया। प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने मीडिया से कहा, 'यह बैठक अहम फैसलों को लेकर बुलाई गई थी। कोर कमिटी की बैठक 13 और 14 मार्च को भी होनी है। 18 मार्च को सरकार के 4 साल पूरे हो रहे हैं, इस पर भी बैठक में चर्चा हुई।' वहीं 13 विधायकों की नाराजगी के सवाल पर उन्होंने कहा कि पार्टी का एक विधायक भी नाराज नहीं है। ये सारी बातें मनगढ़ंत हैं। उन्होंने कहा कि ये सारी चर्चाएं मीडिया से उठाई गई हैं।

दो दर्जन विधायक गैरसैंण से देहरादून पहुंचे
शुक्रवार रात से ही उत्तराखंड में सियासी हड़कंप मचा हुआ था। इसके बाध शनिवार को कोर कमिटी की बैठक के लिए दो दर्जन विधायकों को दो-तीन हेलिकॉप्टर के जरिए गैरसैंण से देहरादून एयरलिफ्ट कराया गया। वहीं गैरसैंण में विधानसभा सत्र जल्दबाजी में बजट पास कराया गया।

सीएम चेहरे के लिए तीन नामों की चर्चा
कोर कमिटी की बैठक से पहले ही उत्तराखंड में सीएम पद की रेस के लिए तीन नाम भी सामने लगे- रमेश पोखरियाल निशंक, सतपाल महाराज और सांसद अनिल बलूनी। ऐसा कहा गया कि पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के दौरान उत्तराखंड में बगावत होने की आशंका है।

You can share this post!

Comments

Leave Comments