• 06:42 pm
news-details
पंजाब-हरियाणा

अभय चौटाला ने कहा, हां कर रहा हूं बदतमीजी, लिख देना- महिला पत्रकार ने लिख दिया!

महिला पत्रकार के एक सवाल के जवाब में अभय चौटाला ने कहा कि “तू जानती नहीं है कि एक राज्यसभा सदस्य बिल पर साइन न करे तो सरकार गिर जाती है।”

राजनेताओं को पत्रकारों के सवाल हमेशा से बुरे लगते रहे हैं। लेकिन कई बार नेता पत्रकारों के सवाल से नाखुश होकर उनके साथ अभद्र व्यवहार भी कर बैठते हैं। ऐसा ही कुछ हाल ही में एक महिला पत्रकार के साथ हुआ जब वे हरियाणा की एक प्रमुख राजनीतिक पार्टी इनेलो के नेता अभय चौटाला का इंटरव्यू करने गईं। अभय चौटाला ने पहले तो महिला पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार किया और यहां तक कह दिया कि हां कर रहा हूं, जाकर लिख देना। इंटरव्यू की आपबीती को महिला पत्रकार ने अपने रिपोर्ट में भी बयां किया है।

न्यूज वेबसाइट द प्रिंट की महिला पत्रकार ज्योति यादव ने दावा किया है कि इनेलो के नेता अभय चौटाला इंटरव्यू करने उनके कार्यालय पर गई तो उनके साथ काफी बदतमीजी की गई। द प्रिंट में छपी रिपोर्ट के अनुसार जब भी इनेलो नेता अभय चौटाला से हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला को लेकर सवाल पूछे गए तो वे भड़क उठते थे। इतना ही नहीं इनेलो नेता ने महिला पत्रकार के साथ बेहद ही अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया।

बकौल ज्योति यादव, मैंने कई बार अभय चौटाला के शब्दों पर आपत्ति जताई लेकिन उनका व्यवहार जस का तस रहा. इतना ही वे उनके सामने ही पीकदान में भी थूकने लगे। ज्योति अपने रिपोर्ट में यह भी लिखती हैं कि उन्हें कई बार “तुम सारे पत्रकार” कहकर संबोधित किया गया। इसके अलावा अभय चौटाला ने महिला पत्रकार ज्योति यादव को बेहद ही बुरे और अपमानजनक अंदाज में कहा “तू पत्रकारिता सीख।”

हालांकि बात तब हद से ज्यादा बिगड़ जब महिला पत्रकार के एक सवाल के जवाब में अभय चौटाला ने कहा कि “तू जानती नहीं है कि एक राज्यसभा सदस्य बिल पर साइन न करे तो सरकार गिर जाती है।” तो महिला पत्रकार ने अभय को ऐसा कोई एक उदाहरण देने को कहा कि जब राज्यसभा सदस्य के साइन ना करने से सरकार गिर गई। महिला पत्रकार के इतना कहते ही अभय चौटाला काफी बिफर गए और कहने लगे कि ‘तू निकल यहां से, हो गया इंटरव्यू, बहुत देखे हैं पत्रकार।’

आगे जब ज्योति यादव ने अभय चौटाला की इस हरकत का प्रतिकार करते हुए कहा कि आप एक पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार कर रहे हैं। इसपर अभय चौटाला ने बेहद ही अपमानजनक अंदाज में कहा कि ‘हां, कर रहा हूं बदतमीजी, रिपोर्ट में मेरी बदतमीजी के बारे में भी लिख देना।’ अपने साथ हुए इस व्यवहार पर महिला पत्रकार ज्योति यादव ने अपने रिपोर्ट में लिखा है कि जरुर समय के साथ मेरी चमड़ी मोटी हो जाएगी लेकिन यह ऐसा अनुभव नहीं है जिसका मैं दोबारा से सामना करना चाहूंगी।

You can share this post!

Comments

Leave Comments