• 01:07 am
news-details
पंजाब-हरियाणा

पिता की आंखों के सामने जिंदा जले गए थे बच्चे, सीबीआई कोर्ट ने 11 आरोपियों को बरी किया

बहुचर्चित सुनपेड़ अग्निकांड

हरियाणा। पंचकूला स्थित सीबीआई की कोर्ट से सोमवार को बड़ा फैसला आया है। मामला साढ़े 5 साल पहले फरीदाबाद जिले के गांव सुनपेड़ में घटे अग्निकांड का है, जब घर में सोए परिवार के 4 सदस्यों में से दो बच्चे जिंदा जल गए थे। वहीं दंपती गंभीर घायल हो गया था। इस मामले में आज सीबीआई की कोर्ट ने सभी 11 आरोपियों को आरोपमुक्त कर दिया। इस मसले पर खूब राजनीति हुई थी, यहां तक कि राहुल गांधी और वृंदा करात भी पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे थे। पीड़ित पक्ष की मांग और राजनैतिक दबाव के चलते हरियाणा सरकार ने इस केस की जांच सीबीआई को सौंपी थी। 20 अक्टूबर 2015 की सुबह फरीदाबाद जिले के गांव सुनपेड़ में घर में सोया एक परिवार आग की लपटों में घिर गया था। थाना सदर की पुलिस को दी शिकायत में सुनपेड़ निवासी जितेंद्र ने बताया था कि 19 अक्टूबर की रात को वह अपने घर में पत्नी रेखा, बेटे वैभव और बेटी दिव्या के साथ सोया हुआ थ। आधी रात को पड़ोस में रहने वाले संजय, बलवंत, धर्म सिंह, करतार, अमन और आकाश समेत 11 लोग आए। इन्होंने सोते परिवार पर पेट्रोल फेंककर आग लगा दी। उस दौरान बेटा वैभव और बेटी दिव्या की जिंदा जलकर मौत हो गई और वो दोनों पति-पत्नी भी झुलस गए थे। जितेंद्र के मुताबिक बच्चों की जान बचाने की कोशिश में उसके खुद के हाथ झुलस गए थे, वहीं पत्नी रेखा कई दिन दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती रही थी। उस वक्त पुलिस ने जितेंद्र की शिकायत पर एक नाबालिग समेत कुल 14 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था।
पहले मामले की जांच स्थानीय स्तर पर एसआईटी  कर रही थी, लेकिन बाद में तमाम विपक्षी राजनैतिक पार्टियों के दबाव के बीच तत्कालीन मुख्यमंत्री मनोहर लाल ले इस केस को सीबीआई के हवाले कर दिया था। 3 आरोपियों को प्राथमिक जांच के दौरान ही बाहर कर दिया गया था। इसके बाद 28 अक्टूबर 2015 को थाना क्राइम ब्रांच-3 में एफआईआर दर्ज करके छानबीन शुरू करने वाली सीबीआई टीम ने जांच पूरी की और ब्यूरो की कोर्ट में क्लोजर रिपोर्ट दाखिल कर दी थी। सीबीआई कोर्ट में बचाव पक्ष ने दावा किया कि हत्या मामले में नामजद किसी भी व्यक्ति की हत्या में कोई इन्वॉल्वमेंट नहीं थी। सभी पर ये मामला सिर्फ आपसी रंजिश के चलते दर्ज करवाया गया था।
नतीजतन 11 आरोपियों की क्लोजर रिपोर्ट में भी सभी को क्लीनचिट दी गई थी। सोमवार को उसी रिपोर्ट के आधार सीबीआई कोर्ट ने इन सभी 11 आरोपियों को आरोपमुक्त करने का फैसला सुनाया गया है। इस मामले में सीबीआई को आरोपियों के खिलाफ कोई भी सबूत या गवाह नहीं मिला। वहीं चार्जशीट दाखिल न होने के चलते सीबीआई कोर्ट ने सभी आरोपियों को जमानत दे दी थी।

You can share this post!

Comments

Leave Comments